(1) Rajasthan GK One Liner Questions Answers PDF by jepybhakar

राजस्थान जीके इन हिन्दी, राजस्थान जनरल नॉलेज इन हिंदी, rajasthan gk download, rajasthan gk book pdf download, rajasthan gk in hindi pdf file free download, राजस्थान गक नोट्स इन हिंदी पीडीऍफ़ फ्री डाउनलोड, rajasthan gk mcqs, rajasthan one liner questions answers, rajasthan gk one liner pdf, rajasthan gk in hindi pdf file free download,

' केला बावड़ी ' डूंगरपुर में स्थित है।

डूंगरपुर की भव्य नौलखा बावड़ी प्रेमल देवी ने बनवाई थी।



डूंगरपुर में माही नदी के तट पर, दाऊदी बोहरा समाज का प्रधान तीर्थ स्थल गलियाकोट स्थित है।


कालीबंगा संग्रहालय राजस्थान के हनुमानगढ़ जिले में स्थित है।


जयपुर या जयनगर( पूर्व नाम) का निर्माण वास्तुशिल्पी विद्याधर भट्टाचार्य की निगरानी में हुआ था।


बिशप हैबर ने जयपुर नगर के बारे में कहा था कि '' नगर का परकोटा मास्को के क्रेमलिन नगर के समान है।"

जयपुर के खलकाणी माता के मंदिर में प्रतिवर्ष गधों का मेला आयोजित किया जाता है।

( जयपुर के निकट लूनियावास ग्राम में खलकाणी माता का प्रसिद्ध मंदिर है)।
शीतला माता का मुख्य मंदिर चाकसू में स्थित है।

Carbon and it's Compounds (Part-1) (In Hindi) | (Hindi) Carbon and it's Compounds - Unacademy

to enroll in courses, follow best educators, interact with the community and track your progress.


Rajasthan Police Model Paper 2018 (Part-1) (in Hindi) | (Hindi) - Rajasthan Police Model Paper 2018 (Part-C) - Unacademy

Rajasthan Police Model Paper 2018 (Part-1) (In Hindi) Important questions 61 to 72


गौड़ीय संप्रदाय के गोविंद देव जी मंदिर का निर्माण सवाई जयसिंह ने , जय निवास बाग में करवाया था।


राजस्थान के जयपुर जिले में कलयुग के अवतार कल्की भगवान का ऐतिहासिक विष्णु मंदिर है।

सात बहनों का मंदिर जयपुर के सामोद महल में स्थित हैं।

खंगारोतो की कुलदेवी ज्वाला माता का मंदिर जयपुर में जोबनेर में स्थित है।

हवा महल के वास्तु विद् लालचंद उस्ता थे।

कपिल मुनि की तपोभूमि श्री कोलायत जी , बीकानेर में स्थित है।

( महिषी कपिल ने यहां 'सांख्य दर्शन' का प्रतिपादन किया था कोलायत के पास के गांव में महर्षि च्यवन तथा दत्तात्रेय की की तपोभूमि है)

'अलख सागर' नाम का प्रसिद्ध कुआ राजस्थान के बीकानेर जिले में स्थित है।

बूंदी जिले का दक्षिणी पूर्वी भाग जिसे 'बावन बयालीस' कहते हैं।

छोटीकाशी व बावड़ियों का शहर बूंदी को कहा जाता है।

मोती महल संग्रहालय बूंदी में स्थित है।

सतबीस देवरी जैन मंदिर के लिए प्रसिद्ध है ।

चित्तौड़गढ़ के मंडफिया गांव में सांवलिया जी के विश्व विख्यात मंदिर में स्थित काले पत्थर की श्री कृष्ण की मूर्ति को भक्त 'सांवलिया सेठ ' कहते हैं। स्थानीय लोग सांवलिया जी को अफीम के देवता के रूप में पूजते हैं।

1000 General Knowledge Important Question (Part-1)(in Hindi) | (Hindi)1000 General Knowledge Important Question for RPSC - Unacademy

1000 General Knowledge Important Question for RPSC, Rajasthan Police, SSC, Railway



1000 General Knowledge Important Question (Part-4) | (Hindi)1000 General Knowledge Important Question for RPSC - Unacademy

1000 General Knowledge Important Question for RPSC, Rajasthan Police, SSC, Railway



मातृकुंडिया तीर्थ को 'राजस्थान का हरिद्वार' कहा जाता है।

' नौगजा पीर की कब्र ' चित्तौड़गढ़ दुर्ग में स्थित है।

'भारतीय मूर्तिकला का विश्वकोष' विजय स्तंभ को कहा जाता है।

'खातड रानी का महल' चित्तौड़गढ़ दुर्ग में स्थित है।

' मचकुंड तीर्थ ' सब तीर्थों का भांजा कहां गया है

किराडू के मंदिर को राजस्थान का खजुराहो कहा जाता है।

मेनाल जलप्रताप भीलवाड़ा में स्थित है।

" जल महलों की नगरी'' डीग को कहते हैं।

अकबर का मृगया महल रूपवास में स्थित है।

लव गार्डन भीलवाड़ा में स्थित है।

जगन्नाथ कछावाहा की 32 खंभों की छतरी मांडलगढ़, भीलवाड़ा में स्थित है।

Rajasthan Current GK Last Six Months Part-1 (in Hindi) | (Hindi) Rajasthan Current GK Last Six Months - Unacademy

(Hindi) Rajasthan Current GK Last Six Months



Blood - Introduction RBC, WBC (in Hindi) | (Hindi)General Science - Biology - Unacademy

General Science (In Hindi) - Blood - Introduction and part (rbc, wbc)

मांडलगढ़ भीलवाड़ा के समीप स्थित मेनाल में बनास, बेड़च और मेनाल तीन नदियों का त्रिवेणी संगम है।

सावन माता का मंदिर भीलवाड़ा में स्थित है।

भरतपुर में अनगिनित कब्रगाहे बयाना कस्बे के पास है।
( मध्यकाल में बयाना में कई युद्ध हुए हैं अतः यहां कई मुसलमान योद्धाओं की मजारे हैं इसे कब्रगाहों का शहर भी कहते हैं)

भीलवाड़ा में प्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानी केसरी सिंह बारहठ एवं प्रताप सिंह बारहठ की हवेली है।



बीकानेर राजपरिवार की छतरियां देवीकुंड सागर में स्थित है।

1000 GK Question PDF download click here

Contact Form

Name

Email *

Message *

Designed By Dharmendar Gour