(5) Rajasthan GK One Liner Questions Answers PDF by jepybhakar

राजस्थान जीके इन हिन्दी, राजस्थान जनरल नॉलेज इन हिंदी, rajasthan gk download, rajasthan gk book pdf download, rajasthan gk in hindi pdf file free download, राजस्थान गक नोट्स इन हिंदी पीडीऍफ़ फ्री डाउनलोड, rajasthan gk mcqs, rajasthan one liner questions answers, rajasthan gk one liner pdf, rajasthan gk in hindi pdf file free download,

अकबर द्वारा महाराणा प्रताप को समझाने हेतु गए व्यक्तियों का सही क्रम सबसे पहले जलाल खान, मानसिंह प्रथम, भगवंत दास व टोडरमल था।

जलाल खाँन कोरची( नवंबर, 1572 ), कुंवर मान सिंह( जून 1573), राजा भगवंत दास (सितंबर ,1573) व राजा टोडरमल (दिसंबर ,1573)।





"जो दृढ़ राखे धर्म को तिहिं राखे करतार" यह शब्द मेवाड़ राज्य के राज्य चिन्ह में अंकित थे।

हल्दीघाटी के युद्ध के पीछे अकबर का मुख्य उद्देश्य, राणा प्रताप को अपने अधीन लाना था।

महाराणा राजसिंह प्रथम शासक के प्रश्नय मे वृंदावन से लाई गई श्रीनाथजी की मूर्ति सिहाड गांव (नाथद्वारा)में स्थापित की गई थी।

'खातोली के युद्ध' में महाराणा संग्राम सिंह अत्यधिक घायल हो गए थे एवं उनका एक हाथ भी कट गया था।

सम्राट अकबर की प्रतिनिधि के रूप में महाराणा प्रताप से संधि करने हेतु कुंवर मान सिंह महाराणा प्रताप से उदयसागर झील में मिले थे।

'सुमेल गिरी का युद्ध'( 1544) राव मालदेव व शेरशाह सूरी के मध्य लड़ा गया था।


Rajasthan gk important question answer (Part-10) | (Hindi) - Rajasthan Police Model Paper 2018 (Part-C) - Unacademy

In this Course, we will learn Important questions on GK for Rajasthan Police Service Exam



Rajasthan gk important question answer (Part-11) | (Hindi) - Rajasthan Police Model Paper 2018 (Part-C) - Unacademy

In this Course, we will learn Important questions on GK for Rajasthan Police Service Exam


मारवाड़ का राव रणमल राठौड़ शासक सन 1438 ईस्वी तक मेवाड के शासन की देखरेख करता रहा।
( राव रणमल ने अपनी बहन हँसा बाई का विवाह मेवाड़ महाराणा लाखा के साथ इस शर्त पर किया अत: लाखा के बाद उनके पुत्र मोकल व फिर उनके पुत्र कुंभा के अवयस्क काल तक राव रणमल ही मेवाड के शासन की देखरेख की थी। सन 1438 ईस्वी में महाराणा कुंभा ने राव रणमल की हत्या करवा दी थी।)

'नाग भट्ट ll'प्रतिहार शासक ने कन्नौज पर सौ वर्ष तक चली त्रिविपक्षी युद्ध में पाल वंश के शासक को हराकर इस युद्ध का अंत किया था।
( नागभट्ट ll ने चक्रायुघ को हराकर कन्नौज पर अधिकार किया वह उसे अपनी राजधानी बनाया)



मारवाड़ जोधपुर का प्रथम राठौर शासक मोटा राजा राव उदय सिंह जिसे अकबर की अधीनता स्वीकार करने के बाद जोधपुर की राजगद्दी प्रदान की गई।
(अकबर के नागौर दरबार 1570 ईस्वी में जोधपुर शासक राव चंद्रसेन की बड़े भ्राता राव उदय सिंह ने अकबर की सेवा में उपस्थित होकर उसकी अधीनता स्वीकार कर ली जबकि राव चंद्रसेन बिना अधीनता स्वीकार किये वहां से चले गए । अकबर ने राव चंद्रसेन से नाराज होकर जोधपुर के किले पर आक्रमण करवाया और उदय सिंह की सेवाओं से खुश होकर उन्हें 4 अगस्त 1583 को जोधपुर का शासक बना दिया।)

राठौर शासक राव चंद्रसेन की घोड़े की सवार प्रतिमा सारण (सोजत) में स्थित है।

जयपुर और जोधपुर के शासकों द्वारा अपना राज्य पुनः प्राप्त करने के लिए महाराणा अमर सिंह द्वितीय के साथ मिलकर 'देबारी समझौता' मई 1708 में किया गया। 
(देबारी समझौता देबारी नामक स्थान पर मारवाड़ के अजीत सिंह, मेवाड़ के महाराणा अमर सिंह द्वितीय व आमेर के सवाई जयसिंह के मध्य हुआ था।)

मेहरानगढ़ का निर्माण राव जोधा ने करवाया था


Carbon and it's Compounds (Part-1) (In Hindi) | (Hindi) Carbon and it's Compounds - Unacademy

to enroll in courses, follow best educators, interact with the community and track your progress.



Rajasthan Police Model Paper 2018 (Part-1) (in Hindi) | (Hindi) - Rajasthan Police Model Paper 2018 (Part-C) - Unacademy

Rajasthan Police Model Paper 2018 (Part-1) (In Hindi) Important questions 61 to 72


मारवाड़ की राजकुमार अजीत सिंह के सुरक्षित पालन पोषण हेतु, वीर दुर्गादास राठौड़ को मेवाड़ के "महाराणा राजसिंह" शासक ने अपने यहां यहां शरण देकर केलवा की जागीर प्रदान की थी।

वीर दुर्गादास राठौड़ ने, राजकुमार अजीत सिंह व रानियों को 'गोरांधाय व बाघेली' महिलाओं की मदद से औरंगजेब के चुंगल से छुड़ाकर सुरक्षित निकाला था ।


Rajasthan Police Model Paper PDF download click here


Contact Form

Name

Email *

Message *

Designed By Dharmendar Gour