(7) Rajasthan GK One Liner Questions Answers PDF by jepybhakar

राजस्थान जीके इन हिन्दी, राजस्थान जनरल नॉलेज इन हिंदी, rajasthan gk download, rajasthan gk book pdf download, rajasthan gk in hindi pdf file free download, राजस्थान गक नोट्स इन हिंदी पीडीऍफ़ फ्री डाउनलोड, rajasthan gk mcqs, rajasthan one liner questions answers, rajasthan gk one liner pdf, rajasthan gk in hindi pdf file free download,

1567 ईस्वी के बादशाह अकबर वह महाराणा उदय सिंह के मध्य युद्ध में , मेवाड़ के वीर सेनापति जयमल एवम पत्ता देश के लिए शहीद हुए।

(1567 ईस्वी के युद्ध में जयमल राठौड़ एवं रावत पत्ता की वीरता से मंत्रमुग्ध हो बादशाह अकबर ने इन वीरों की हाथी पर सवार प्रतिमा चित्तौड़गढ़ किले के द्वार पर स्थापित करवाई।)



हल्दीघाटी के युद्ध में महाराणा प्रताप के घायल होने के बाद, जाला बिंदा ने उनका स्थान लिया था।

बलीचा गांव के पास महाराणा प्रताप के घोड़े चेतक की छतरी है।

पिछोला झील में जगत निवास महल का निर्माण महाराणा जगतसिंह द्वितीय मेवाड़ शासक ने करवाया था
 (पिछोला झील में जगत राज महल का निर्माण जगत सिंह द्वितीय ने करवाया था परंतु जग महलों का निर्माण महाराजा करण सिंह ने प्रारंभ किया था और उनके पुत्र जगत सिंह प्रथम ने पूर्ण करवाया था।)



Rajasthan Current GK Last Six Months Part-1 (in Hindi) | (Hindi) Rajasthan Current GK Last Six Months - Unacademy

(Hindi) Rajasthan Current GK Last Six Months



Blood - Introduction RBC, WBC (in Hindi) | (Hindi)General Science - Biology - Unacademy

General Science (In Hindi) - Blood - Introduction and part (rbc, wbc)



प्रताप ने मेवाड़ भूमि को मुगलों से मुक्त कराने का अभियान 'दिवेर' से प्रारंभ किया था।
(दिवेर के किले का मुख्तार सम्राट अकबर का काका सुल्तान खान था । महाराणा प्रताप ने अक्टूबर ,1582 में उस पर आक्रमण कर( दिवेर का युद्ध )वहां स्थित मुगल सेना को हरा दिया था तथा दिवेर पर अपना आधिपत्य स्थापित कर मेवाड को मुगलों से मुक्त कराने की अभियान का सूत्रपात किया।)

मेवाड़ की प्रताप सिंह ,उदय सिंह व अमर सिंह शासक अकबर के समकालीन थे।

जीवन के प्रारंभिक दिनों में महाराणा सांगा के आश्रय दाता 'करमचंद पवार' बने थे।

कीका, के नाम से महाराणा प्रताप शासक लोकप्रिय थे ।

'मेवाड़ के रक्षक' के रूप में भामाशाह का स्मरण किया जाता है।

प्रताप की सेना की हरावल(सेना के आगे का भाग) का नेतृत्व हकीम खान सूर पठान ने किया था।

महाराणा कुंभा द्वारा कुंभलगढ़ दुर्ग का निर्माण रानी कुंभल देवी की स्मृति में किया गया था



1000 General Knowledge Important Question (Part-1)(in Hindi) | (Hindi)1000 General Knowledge Important Question for RPSC - Unacademy

1000 General Knowledge Important Question for RPSC, Rajasthan Police, SSC, Railway




1000 General Knowledge Important Question (Part-4) | (Hindi)1000 General Knowledge Important Question for RPSC - Unacademy

1000 General Knowledge Important Question for RPSC, Rajasthan Police, SSC, Railway


रणकपुर प्रशस्ति, में बप्पा और कालभोज को अलग अलग व्यक्ति बताया गया।
 (रणकपुर प्रशस्ति 1439 ईसवी की है व रणकपुर प्रशस्ति के सूत्रधार देपाक था)

"उदयपुर का गोहिल वंश" सर्वाधिक समय तक एक ही प्रदेश पर राज्य करने वाला संसार का एकमात्र राजवंश है।

रघुकुल में यादों रामचंद्र ने पितृभक्ति का ज्वलंत उदाहरण दिखलाया था या गोहिल वंश के राजकुमार चुंडा ने एक भक्ति का ज्वलंत उदाहरण दिखलाया।
 (चुंडा, महाराणा लाखा के बड़े पुत्र थे। जिन्होंने मेवाड की गद्दी पर स्वयं काबिज होने की बजाएं मेवाड़ राज्य अपने पिता की नई दुल्हन हंसाबाई की होने वाली संतान को देने की भीष्म प्रतिज्ञा की )

सारंगपुर का युद्ध मालवा के सुल्तान महमूद खिलजी वह महाराणा कुंभा के बीच हुआ।
(1437 ईस्वी में हुए इस युद्ध में कुंभा विजय हुए)

आहड की महासतियों में सबसे पहली छतरी महाराणा अमर सिंह -l की है।

महाराणा प्रताप की छतरी बांडोली, गांव चावंड में स्थित है।

मेवाड़ के महाराणा भीमसिंह ने 1818 ईस्वी में ईस्ट इंडिया कंपनी से संधि की थी।

"मेवाड़ का भीष्म पितामह''राव चुंडा को कहा जाता था।

स्वामी दयानंद सरस्वती द्वारा उदयपुर में स्थापित सामाजिक संस्था 'परोपकारिणी सभा'थी।


Rajasthan Police Model Paper 2018 (Part-1) (in Hindi) | (Hindi) - Rajasthan Police Model Paper 2018 (Part-C) - Unacademy

Rajasthan Police Model Paper 2018 (Part-1) (In Hindi) Important questions 61 to 72



Rajasthan Industries and Industrial area (Overview) (in Hindi) | (Hindi) Rajasthan Industries and Industrial area with MCQ - Unacademy

Rajasthan Industries and Industrial area (Overview) (in Hindi)


विवान की गद्दी पर राणा सांगा के राज्याभिषेक के समय दिल्ली पर सिकंदर लोदी का शासन था।

राजस्थान के इतिहास में सलूंबर के राव रतन सिंह की पत्नी व वीर हाड़ी रानी के नाम से विख्यात सहलकंवर वीरांगना ने युद्ध भूमि में जाते अपने पति को निशानी के तौर पर अपना सिर काट कर दे दिया था।



हल्दीघाटी का युद्ध 1576 ईस्वी में हुआ था।

मेवाड़ के महाराणा राजसिंह ने औरंगजेब के विरुद्ध जाकर जोधपुर की अजीत सिंह की सहायता की थी।



Contact Form

Name

Email *

Message *

Designed By Dharmendar Gour