प्रदेेश में भारत सरकार के उपक्रम व कारखाने

प्रदेेश में भारत सरकार के उपक्रम व कारखाने  

* राज्य की पहली औद्योगिक नीति 1978 में अपनाई गई।

* हिन्दुस्तान मशाीन टूल्स निगम लिमिटेड- 1967 में चेकोस्लोवाकिया की सहायता से एच. एम. टी.    घड़ियों व लैंथ मशिनों के निर्माण हेतु अजमेर में स्थापित किया गया। यह देश में एच. एम. टी. की छठी इकाई थी, जो वर्तमान में बन्द अवस्था में है।

* हिन्दुस्तान साँभर साॅल्ट्स लिमिटेड- इसकी स्थापना 1964 में साँभर में की गई है। इसमें 60 फीसदी केन्द्र सरकार व 40 फीसदी राज्य सरकार की पुँजी लगी हुई है।

* माॅडर्न बेकरीज इण्डिया लिमिटेड- इसकी स्थापना भारत सरकार द्वारा 1965 में जयपुर में की गई, जो वर्तमान में इसको ‘हिन्दुस्तान लीवर कम्पनी’ को बेच दिया गया है।

* राजस्थान इलेक्ट्राॅनिक्स एण्ड इन्स्टूमेंअेशन लिमिटेड- यह भारत सरकार (51 फीसदी) व रीको (49 फीसदी) का उपक्रम है, जो कनकपुरा (जयपुर) में है।

* हिन्दुस्तान काॅपर लिमिटेड- इसकी स्थापना नवम्बर, 1967 में संयुक्त राज्य अमेरिका की वेस्टर्न नैप इंजीनियरिंग कम्पनी की सहायता से खेतड़ी (झुंझुनू) में की गई।

* हिन्दुस्तान जिंक लिमिटेड- इसकी स्थापना 10 जनवरी 1966 में भारत सरकार द्वारा देबारी (उदयपुर) व चंदेरिया (चितौड़गढ़) में की गई। इसका सीसा-जस्ता शोध संयंत्र एशिया का सबसे बड़ा सीसा-जस्ता शोध संयंत्र है।
* इन्स्टूमेंटेशन लिमिटेड- इसकी स्थापना 1964-65 कोटा में इलेक्ट्रानिक्स यंत्रो के निर्माण की गई। इसका प्रधान कार्यालय जयपुर में है।

* जयपुर मेटल्सः- जयपुर में। यह बिजली के मीटर बनाने का कारखाना है, जिसे हाल में ही सरकार द्वारा निजी कम्पनी जीनस को देने का फैसला किया है।

* कैप्सन मीटर कम्पनीः- जयपुर में। इसमें पानी के मीटर बनते है।

* मान इण्डस्ट्रीज काॅर्पोरेशनः- जयपुर में। इसमें लोहे के टाॅवर बनते है।

* नेशनल बाॅल बियरिंग इएडस्ट्रीज (NBC) :- जयपुर में। यह एशिया का सबसे बड़ा बियरिंग निर्माण का कारखाना है।

* राजस्थान इलेक्ट्रानिक्स काॅर्पोरेशन- जयपुर में। इसमें टीवी के सेट बनते है।

* राजस्थान सरकार ने जयपुर में ए.टी.एम. (आॅटोमेटिक टेलर मशीन) बनाने का कारखाना ब्राजील की कम्पनी पर्टो लगायेगी।

* जयपुर में स्थित आई. टी. पार्क महेन्द्र वल्र्ड सिटी के नाम से जाना जाता है। राज्य का इलेक्ट्रानिक्स हार्डवेयर टेक्नोलाॅजी पार्क कूकस (जयपुर) में है।

* लोको एण्ड कैरिज वर्क शाॅप, अजमेर- इसमंें मालगाड़ी के वैगनो (डिब्बों) की मरम्मत तथा लोको कम्पनी के इंजन बनते है।

* हाईटेंशन इंसूलेटर्स - कारखाना आबु रोड, सिरोही में है।

*जे. के टायर, राजसंमन्द- यह राज्य का सबसे बड़ा टायर ट्युब बनाने का कारखाना कांकरोली में है।

* सन् 1964 में भीलवाड़ा में राज्य में प्रथम वनस्पति घी बनाने  के कारखाने की स्थापना की।

* ईट उद्योग, अभ्रक का कारखाना- भीलाववाड़ा।

* राज्य के गुलाबपुरा (भीलवाड़ा) क्षैत्र में रेलवे कोच ‘ग्रीन फील्ड मेन लाइन इलेक्ट्रिक मल्टीपल यूनिट’ संयंत्र स्थापित किया जायेगा, जिसके लिए सरकारी क्षेत्र ेक भेल उपक्रम ने भारतीय रेल के साथ समझौता किया।

* वैगन फैक्टी, कोटाः- यहाँ बड़ी लाईन के रेल के डिब्बे बनते है।

* नाप-तौल के यंत्र, स्ट्राॅबोर्ड का कारखाना, श्रीराम रेयन्स एण्ड टायर कोर्ड- कोटा।

* राज्य की कोटा में इन्द्रप्रस्थ औद्योगिक क्षैत्र सथापित किया गया है।

* सिमको वैगन फैक्ट्री, भरतपुर- इसमें रेल के डिब्बे बनते हैं। यहाँ हाल ही में कहीं वर्षो बाद उत्पादन शुरू हुआ हैं। इसकी स्थापना 1957 में की गई थी।

* मयुर बीड़ी का कारखाना- टोंक में।

* पैन एशिया एग्रो आयल्स- मालपुरा, टोंक में।

* अवन्ती स्कुटर कारखाना, अशोका लेलेण्ड ट्रक का कारखाना, अरावली स्वचालित वाहन लिमिटेड- अलवर में।

* राजस्थान टेलिफोन लिमिटेड- भिवाड़ी, अलवर में।


Share:
Designed by Dharma WebNet