Biology Important One Liner Question In Hindi (Part-12) by Jepybhakar

Biology Important One Liner Question In Hindi (Part-12) by Jepybhakar

211-221. लवक (Plastids) :-
*इनकी खोज सर्वप्रथम सन 1865 में हैकेल ने की तथा नामकरण एम एफ डब्ल्यू एस शिंपर ने किया।
* यह गोलाकार अथवा चपटी आकार की तथा रंगीन अथवा रंगहीन होती है जो पादप कोशिकाओं में पाई जाती है।
* लवक कवक, जीवाणु, नीले-हरे शैवाल तथा मिक्सोमाइट आदी में नहीं पाए जाते हैं।
vist more pdf :- www.jepybhakar.com
* यह मुख्यत्या रंग के आधार पर तीन प्रकार की होती है-
i. हरित लवक अथवा क्लोरोप्लास्ट - हरे रंग की लवक।
ii. वर्णी लवक अथवा क्रोमोप्लास्ट - रंगीन लवक।
iii. अवर्णी लवक अथवा ल्यूकोप्लास्ट - रंगहीन लवक।
* हरे टमाटर तथा हरी मिर्च में क्लोरोप्लास्ट होते हैं जो पकने पर पके टमाटर तथा पकी मिर्च में क्रोमोप्लास्ट में बदल जाते हैं।
* क्लोरोफिल बैक्टीरिया, नीली-हरी शैवाल, लाल शैवाल तथा कवकों को छोड़कर सभी पौधों में गहरी कोशिकाओं में पाए जाते हैं।
*प्रकाश संश्लेषण की प्रकाश अभिक्रिया क्लोरोप्लास्ट के ग्रेना में होती है तथा अप्रकाशिक अभिक्रिया स्ट्रोमा में संपन्न होती है।
* क्रोमोप्लास्ट में स्ट्रोमा नहीं होता है।
* क्रोमोप्लास्ट सामान्यतया पुष्पों के दलों या रंगीन फूलों की भित्तियों में पाए जाते हैं।
vist more pdf :- www.jepybhakar.com
* ल्यूकोप्लास्ट अधिकांश पौधों के भूमिगत भागों में पाए जाते हैं जहां पर सूर्य का प्रकाश नहीं पहुंचता है।
* सूर्य के प्रकाश में ल्यूकोप्लास्ट क्लोरोप्लास्ट में बदल जाते हैं।

vist more pdf :- www.jepybhakar.com
माइक्रोबॉडीज :-
* यह पतली परत वाली झिल्ली से घिरी थैलियां होती है। इनका निर्माण एंडोप्लाज्मीक जालिका एवं गॉलजी तंत्र से थैलियां टूटने से होता है।
* यह दो प्रकार के होते हैं-
i. Peroxisome
ii. Glyoxysome
Peroxisome उन पौधों में पाए जाते हैं जिनमें प्रकाश श्वसन की क्रिया होती है।
जैसे - मूंग, सोयाबीन, सूर्यमुखी, कपास, चुकंदर, क्लोरेला, चाय, मटर आदि।
इसमें प्रकाश की उपस्थिति में कुछ हरे पौधे ऑक्सीजन के स्थान पर कार्बन डाइऑक्साइड निकालते हैं।
जंतु कोशिकाओं में यह यकृत (Liver) व वृक्क (Kidney) में तथा प्रोटोजोंस में पाए जाते हैं।
जंतु कोशिकाओं में वसा उपापचय का कार्य भी उसी ऑक्सिसोम ही करते हैं।
vist more pdf :- www.jepybhakar.com
इनकी खोज टोलब्र (1969) ने की थी।
Glyoxysome प्राय: वसीय बीजों जैसे मूंगफली तथा अरंड की कोशिकाओं में जहां पर वसा का कार्बोहाइड्रेट में परिवर्तन होता है पाए जाते हैं।
इनकी खोज 1961 में बीबर्स के द्वारा की गई।

vist more pdf :- www.jepybhakar.com


Share:

No comments:

Post a Comment

Designed by Dharmendar Gour