Indian history notes pdf in hindi (गुलाम वंश – कुतुबुद्दीन ऐबक) Part-1

भारतीय इतिहास पीडीएफ इन हिन्दी

Indian history notes pdf in hindi (गुलाम वंश – कुतुबुद्दीन ऐबक) Part-1 for UPSC, RPSC RAS, SSC etc Exams By Jepybhakar

दोस्तो आज की इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको Indian history notes की महत्वपूर्ण  PDF को हिन्दी (in hindi) में उपलब्ध कराऐंगे ! जो कि आपको MPPSC , UPPSC , RAS, Patwari, SSC, Bank व अन्य सभी तरह की प्रतियोगी परीक्षाओं के लिये बहुत उपयोगी सिद्द होंगी !

गुलाम वंश या इलबारी वंश (1206-1290 ई.) –
गुलाम वंश (या मामलुक वंश) की स्थापना कुतुबुद्दीन ऐबक द्वारा हुई। इसप्रकार दिल्ली सतल्लनत के अंतर्गत सर्वप्रथम गुलाम वंश की स्थापना हुई।

कुतुबुद्दीन ऐबक (1206-1210 ई.) –

कुतुबुद्दीन ऐबक (1206-1210 ई.) , Indian history notes pdf in hindi
कुतुबुद्दीन ऐबक

भारत में तुर्की राज्य का संस्थापक माना जाता है।
इसका राज्याभिषेक जून 1206 में हुआ और लाहौर को अपनी राजधानी बनाया।
गोरी के भतीजे गयासुद्दीन महमूद ने ऐबक को 1208 ई. दास मुक्ति पत्र देकर उसे सुल्तान की उपाधि दी।
गौरी ने ऐबक को निशापुर (ईरान) के काजी फखरूद्दीन से गुलाम के रूप में खरीदा था।

उपाधियाँ –
कुरान खाँ – कुरान का सुरीला पाठ करने के कारण
हातिमताई – उदार हृदय के कारण
लालबख्श – लाखों का दान देने के कारण
हातिम द्वितीय – मिनहाज-उस-सिराज ने कहा
मलिक एवं सिपहसालार की उपाधि के साथ शासन किया।

ऐबक के द्वारा न तो अपने नाम का खुतबा पढ़वाया और न ही अपने नाम के सिक्के चलवाये।
ऐबक को ‘हजरते आला‘ (न्यायपूर्ण राज) तथा मिनहाज-उस-सिराज ने इसे हातिम द्धितीय कहा है।

General science important questions in hindi PDF -1 Click Here
संविधान के महत्वपूर्ण प्रश्न भाग-1 PDF Download 
विश्व भूगोल भाग 1 by jepybhakar
कुतुबमीनार –
सूफी संत ख्वाजा कुतुबुद्दीन बख्तियार काकी के नाम पर।

कुतुबमीनार
कुतुबमीनार

निर्माण ऐबक द्वारा दिल्ली में लेकिन इसको पुरा इल्तुतमिश ने किया।
ऐबक ने अफगान की जाम मीनार से प्रभावित होकर इसका निर्माण करवाया।
ईंट से निर्मित विश्व की सबसे ऊँची मीनार।
युनेस्कों द्वारा 1993 ई. में इसे विश्व विरासत सूची में शामिल किया।
ये 72.5 मीटर (237.86 फीट) ऊँची एवं 391 सीढ़ीयाँ।
कुल 5 मंजिला इमारत –
पहली मंजिल का निर्माण – ऐबक द्वारा
दुसरी से चैथी मंजिल का निर्माण – इल्तुतमिश द्वारा
पाँचवी मंजिल का निर्माण – फिरोजशाह तुगलक द्वारा
(चैथी मंजिल आकाशीय बिजली गिरने के कारण ध्वस्त हो गई जिसका पुनः निर्माण फिरोजशाह तुगलक ने करवाया।

भारतीय इतिहास पीडीएफ इन हिन्दी :-

अढ़ाई दिन का झोपड़ा –

अढ़ाई दिन का झोपड़ा
अढ़ाई दिन का झोपड़ा

ऐबक द्वारा 1192 ई. में मोहम्मद गौरी के आदेश पर अजमेर में इसका निर्माण करवाया।
तराइन के द्वितीय के पश्चात् पृथ्वीराज तृतीय के राजधानी और तारगढ़ पर आक्रमण किया।
यहाँ स्थित कंठाभरण महाविधालय को तोड़कर इसका निर्माण करवाया।
यहाँ एक विष्णु मंदिर भी था।

कुव्वत-उल-इस्लाम

कुव्वत-उल-इस्लाम
कुव्वत-उल-इस्लाम

निर्माण दिल्ली में ऐबक द्वारा।
उत्तर भारत की प्रथम मुस्लिम मस्जिद मानी जाती है।
इतिहासकारो के अनुसार 27वें जैनवा मंदिर को तोड़कर निर्माण किया गया।
इसका विस्तार इल्तुतमिश व अलाउद्दीन खिलजी ने किया।

इसके दरबार में हसन निजामी एवं फक्र-ए-मुदब्बिर रहते थे।
ऐबक के एक अधिकारी बख्तियार खिलजी ने नालंदा पर आक्रमण किया तथा इस विश्वविधालय में आग लगा दी जिससे यहाँ रखे हजारों ग्रंथ जलकर राख हो गये।
कुतुबुद्दीन ऐबक की मृत्यु के 1210 ई. में चैगान (पोलो) खेलते हुए घोड़े से गिरकर हुई।
इसकी मृत्यु के पश्चात् सरदारों उसके पुत्र आरामशाह को लाहौर की गद्दी पर बैठाया लेकिन ऐबक का गुलाम एवं दामाद इल्तुतमिश ने इसे अपदस्थ करके सिंघासन पर अधिकार कर लिया।


 Indian history notes pdf in hindi pdf download Click Below Link

Part- 1 PDF Download Click Here
Part -2 Indian history notes pdf in hindi pdf download

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here